Home Hindi Blogs अगर आप भी गर्मियों में फूड पॉइजनिंग से बचना चाहते हैं, तो अपनाएं ये उपाय!

अगर आप भी गर्मियों में फूड पॉइजनिंग से बचना चाहते हैं, तो अपनाएं ये उपाय!

0
अगर आप भी गर्मियों में फूड पॉइजनिंग से बचना चाहते हैं, तो अपनाएं ये उपाय!

गर्मी आते ही फूड पॉइजनिंग की समस्या बढ़ जाती है। खाने में बार-बार लापरवाही के कारण फूड पॉइजनिंग की समस्या हो सकती है, जिसके कारण थकान और कमजोरी महसूस होने लगती है। गर्मियों में फूड पॉयजनिंग के कारण उल्टी, दस्त, बुखार और पेट दर्द जैसी समस्याएं बहुत आम हैं, लेकिन अगर कुछ जानकारी हो, तो इससे बचा जा सकता है। खासतौर पर गर्मी के दिनों में, खाने-पीने की चीजों में सावधानी बरतनी चाहिए।

फूड पॉइजनिंग के लक्षण

  • पेट में मरोड़

  • दस्त

  • उल्टी

  • भूख न लगना

  • हल्का बुखार

  • कमजोरी

  • सरदर्द

  • जी मिचलाना

फूड पॉइजनिंग के कारण

  • बासी भोजन करना

  • घर में खाना बनाते समय, यदि खाना पकाने में गंदे पानी का उपयोग किया जाता है, तो यह फूड पॉइज़निंग का कारण हो सकता है।

  • अगर भोजन को ढंका न जाए तो गंदी मक्खी भोजन में बैठकर हानिकारक बैक्टीरिया भोजन में छोड़ जाती हैं। जिससे फूड पॉइजनिंग होती है।

  • अक्सर रास्ते में लगी खाद्य दुकानों में खाद्य पदार्थों को ढक कर नहीं रखा जाता है, जिसके कारण सड़क का उड़ा हुआ धुआँ सीधे भोजन तक पहुँच जाता है। दूसरी ओर, गंदा मक्खी भी भोजन तक पहुंच जाती है, जिससे भोजन में हानिकारक बैक्टीरिया हो जाते हैं। जब हम उस भोजन को खाते हैं, तो हम बीमार हो जाते है।

  • अगर लंबे समय तक घर में इस्तेमाल होने वाली पानी की टंकी को साफ नहीं किया गया तो पानी दूषित हो जाता है। जब हम किसी भी रूप में उस पानी का उपयोग करते हैं तो इस बीमारी का संदेह होता है।

  • फूड पॉइजनिंग की समस्या सिर्फ दूषित भोजन के कारण नहीं है, कभी-कभी यह हमारे गंदे हाथों से भोजन को खाने से भी होता है।

गर्मियों में फूड पॉयजनिंग से बचने के उपाय

  • केला

केला फूड प्वाइजनिंग में बहुत फायदेमंद है क्योंकि इसमें उच्च पोटेशियम होता है, जो पेट के संक्रमण को कम करता है। केले को दही में मैश करके खाएं। इससे दस्त बहुत जल्दी ठीक हो जाता है।

  • अदरक

एक चम्मच अदरक का रस पीएं और आधा गिलास पानी पिएं। अदरक में जीवाणुरोधी और दर्दनाक गुण होते हैं। इससे संक्रमण खत्म हो जाएगा। ध्यान रखें कि अदरक को ज्यादा न खाएं क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है।

  • पानी

हालाँकि पानी पीना फायदेमंद है लेकिन भोजन की विषाक्तता के उपचार में पानी अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। ऐसे में ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। इसके अलावा सूप, पतली खिचड़ी, नारियल पानी, चावल का पानी, ग्लूकोज, इलेक्ट्रोल पाउडर घोल आदि लेना चाहिए।

  • जीरा

जीरे का इस्तेमाल करने से फूड पॉइजनिंग ठीक हो जाती है। इसके लिए एक चम्मच चने को पीसकर अपने सूप में मिलाएं।

  • नींबू का रस

नींबू के रस की अम्लता फूड पॉइजनिंग के बैक्टीरिया को खत्म करती है, इसलिए इसे फूड पॉइजनिंग में फायदेमंद मानते हैं।

  • तुलसी

तुलसी पेट और गले के संक्रमण दोनों के उपचार के लिए एक और बेहतरीन घरेलू उपाय है। तुलसी के कुछ पत्तों के रस में एक चम्मच शहद मिलाएं। आप इसके उपयोग के कुछ ही घंटों के भीतर सकारात्मक परिणाम देखना शुरू कर देंगे।

  • सेब

सेब खाद्य विषाक्तता के खिलाफ प्रभावी ढंग से काम करता है। यह हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स को कम करता है। सेब को बैक्टीरिया के विकास को रोकने वाले एंजाइम के रूप में जाना जाता है, जो दस्त और पेट दर्द का कारण है।

  • सेब का सिरका

अपने क्षारीय गुणों के कारण सिरका, विशेष रूप से सेब साइडर सिरका, गैस्ट्रो आंत्र अस्तर में आराम कर रहा है। यह पेट में बैक्टीरिया के विकास को रोकता है। इससे फूड पॉइजनिंग का असर तेजी से कम हो सकता है।

  • पुदीना चाय

पेपरमिंट चाय सिर्फ अरोमाथेरेपी नहीं है, बल्कि पेपरमिंट ऑयल अपने सुखदायक प्रभाव के लिए भी जाना जाता है। पेट में ऐंठन वाले लोगों के लिए फूड पॉइजनिंग बेहद फायदेमंद है। अपनी चाय में कुछ बूंदें मिला कर देखें कि कुछ ही घंटों में आपके पेट की ऐंठन कैसे गायब हो जाती है।

RSS280
Follow by Email220
Facebook1k
Twitter570
LinkedIn268
LinkedIn
Share
WhatsApp733